Tuesday, June 1, 2010

हे माँ वर दे!
डा. गुलाम मुर्तज़ा शरीफ़

अकस्मात आवाज़ गूँजी -
"शरीफ साहब" मंच पर आइये।
चारों ओर देखा,
शायद कोई और भी शरीफ हो।
पर, मेरा भ्रम था।
तालियों की गूँज में, साहस कर,
जा बैठा मंच पर।
बड़े बड़े महारथी विराजमान थे।
कुछ मुँह बनाये, कुछ बेज़ार थे।
फिर मेरी बारी आई
और पढ़ना प्रारंभ किया -
"कागा सब उड़ जाइयो,
तुम खाइयो नहीं माँस।
चोंच भी नहीं मारियो,
मोहे पिया मिलन की आस।।"

साहित्य के महारथी क्रोधित हुए,
शेम, शेम के नारे लगाये।
आवाज़ आई - शरीफ साहब शर्म करें,
अमीर ख़ुसरो की "ज़मीन" इस्तेमाल न करें।

ज़मीन! अपनी ज़मीन कहाँ से लाऊँ?
मैं तो प्रवासी हूँ, शरणार्थी हूँ!!
अपनी ज़मीन, अपनी माँ को छोड़ आया हूँ!
वैसे भी यहाँ कौन अपनी "ज़मीन" पर घर बना रहा है?
जिसकी अपनी ज़मीन है वह भी -
दूसरों की ज़मीन, भावों, सोच-विचारों पर
महल बना रहा है।
मैं उन सपूतों की बात नहीं कर रहा
जिन्होंने ज्योति प्रदान की!!
जब भी ’कलम’ उठाता हूँ
अपनी लेखनी, हर पंक्ति पर,
पूर्वजों के भाव-विचार नज़र आते हैं।
कोई नई शकुन्तला, कामायनी, गीताजंली
कैसे लिखूँ?
शब्दों के दाँव-पेच, उलट-पुलट, जादूगरी से
कब तक मन बहलाऊँ!!

हे माँ वर दे, हे माँ वर दे!
अपने पुत्रों को नये विचार
नई शकुन्तला, कामायनी, गीताजंली दे!
हे माँ वर दे!

14 comments:

  1. कुछ नया पढने के लिए मिला इसलिए आपको बहुत बधाई. अच्छा लगा आपके ब्लॉग पर आकर.

    www.nareshnashaad.blogspot.com

    ReplyDelete
  2. नाशाद जी , नमस्कार ,
    कविता अच्छी लगी , धन्यवाद् |
    आपका ब्लॉग देखा आपकी रूचि एवं प्रयास जानकर श्रधा बढ़ी |
    शुभकामनाओं के साथ ....
    डॉ. शरीफ
    अमेरिका

    ReplyDelete
  3. ज़मीन! अपनी ज़मीन कहाँ से लाऊँ?
    मैं तो प्रवासी हूँ, शरणार्थी हूँ!!
    अपनी ज़मीन, अपनी माँ को छोड़ आया हूँ!

    मन को छू गयीं ये पंक्तियाँ ..

    ReplyDelete
  4. संगीता बहन ,
    आपके विचारों का स्वागत है | धन्यवाद् |
    डॉ. शरीफ (अमेरिका)

    ReplyDelete
  5. हिन्दी ब्लॉगजगत के स्नेही परिवार में इस नये ब्लॉग का और आपका मैं ई-गुरु राजीव हार्दिक स्वागत करता हूँ.

    मेरी इच्छा है कि आपका यह ब्लॉग सफलता की नई-नई ऊँचाइयों को छुए. यह ब्लॉग प्रेरणादायी और लोकप्रिय बने.

    यदि कोई सहायता चाहिए तो खुलकर पूछें यहाँ सभी आपकी सहायता के लिए तैयार हैं.

    शुभकामनाएं !


    "टेक टब" - ( आओ सीखें ब्लॉग बनाना, सजाना और ब्लॉग से कमाना )

    ReplyDelete
  6. आपका लेख पढ़कर हम और अन्य ब्लॉगर्स बार-बार तारीफ़ करना चाहेंगे पर ये वर्ड वेरिफिकेशन (Word Verification) बीच में दीवार बन जाता है.
    आप यदि इसे कृपा करके हटा दें, तो हमारे लिए आपकी तारीफ़ करना आसान हो जायेगा.
    इसके लिए आप अपने ब्लॉग के डैशबोर्ड (dashboard) में जाएँ, फ़िर settings, फ़िर comments, फ़िर { Show word verification for comments? } नीचे से तीसरा प्रश्न है ,
    उसमें 'yes' पर tick है, उसे आप 'no' कर दें और नीचे का लाल बटन 'save settings' क्लिक कर दें. बस काम हो गया.
    आप भी न, एकदम्मे स्मार्ट हो.
    और भी खेल-तमाशे सीखें सिर्फ़ "टेक टब" (Tek Tub) पर.
    यदि फ़िर भी कोई समस्या हो तो यह लेख देखें -


    वर्ड वेरिफिकेशन क्या है और कैसे हटायें ?

    ReplyDelete
  7. राजीव जी,
    नमस्कारम |
    मेरे ब्लॉग में आपकी रूचि सराहनीय है | आपने निर्देशानुसार
    मैं ने "नो"क्लिक कर दिया है | यदि उचित न हो तो मुझे बताईये |
    डॉ. शरीफ ( अमेरिका )

    ReplyDelete
  8. दीपावली मुबारक !!

    लो आ गयी दीपावली, मुबारक हो ,
    दीप से दीप जले , रोशनी मुबारक हो l
    मेरी दुआ है , भाई-चारा मुबारक हो ,
    नई सुब्ह , नई किरण , मुबारक हो l

    ReplyDelete
  9. खारा प्रियतम

    प्रकृति से अनुभव लेकर ,
    इठलाती बलखाती चलकर ,
    नित सपनों के गीत संजोये ,
    कल-कल, छल-छल गाती फिरती ,
    जाती हूँ साजन से मिलने |

    पर वह कितना हरजाई है ,
    मुझमें स्थित मीठेपन को
    कर देता है खरा ||

    देख तो आखिर प्रेम को मेरे
    उसका खारापन भी मुझको
    लगता है मीठा ||

    न जाने कब से पागल 'बादल'
    पीछा करता शोर मचाता -
    वह ठहरा 'आकाश का वासी'
    क्या जाने वह प्रेम धरा का !

    वह ना पा मुझको रोता, गरजता ,
    और नयनों से नीर बहता |
    इतना रोता , इतना रोता
    कर देता मुझको भी पागल |

    अकुलाहट को देखकर उसकी ,
    ह्रदय में मेरे तूफान है उठता |
    धर मैं अपना रूप भयंकर ,
    दौड़ी सजन के पास पहुँचती |

    "सागर" साजन है विशाल ह्रदय ,
    धीरे-धीरे थपकी देकर ,
    ले लेता भयंकरता मेरी |

    शायद बादल के आंसू से ,
    हो गया है मेरा प्रियतम भी "खारा"

    ReplyDelete
  10. bahut dinon ke baad aapki fir ek pyari kavitaa parhi. achchha lagaa. aap raipir aaye to aur achchha lagegaa. shubhkaamanaye. isi tarah likhate rahe.

    ReplyDelete
  11. गिरीश भाई नमस्कार |

    आपका स्नेह युक्त पत्र मिला , अच्छा लगा | रायपुर अवश्य आऊँगा ,
    परन्तु अभी अभी तो यहाँ पहुंचा हूँ | दिखिए कब दाना-पानी बुलाता है |
    आप सकुशल रहे यही प्रार्थना है |

    डॉ. शरीफ
    अमेरिका

    ReplyDelete
  12. " बाज़ार के बिस्तर पर स्खलित ज्ञान कभी क्रांति का जनक नहीं हो सकता "

    हिंदी चिट्ठाकारी की सरस और रहस्यमई दुनिया में राज-समाज और जन की आवाज "जनोक्ति.कॉम "आपके इस सुन्दर चिट्ठे का स्वागत करता है . चिट्ठे की सार्थकता को बनाये रखें . अपने राजनैतिक , सामाजिक , आर्थिक , सांस्कृतिक और मीडिया से जुडे आलेख , कविता , कहानियां , व्यंग आदि जनोक्ति पर पोस्ट करने के लिए नीचे दिए गये
    लिंक पर जाकर रजिस्टर करें
    . http://www.janokti.com/wp-login.php?action=register,
    जनोक्ति.कॉम www.janokti.com एक ऐसा हिंदी वेब पोर्टल है जो राज और समाज से जुडे विषयों पर जनपक्ष को पाठकों के सामने लाता है . हमारा प्रयास रोजाना 400 नये लोगों तक पहुँच रहा है . रोजाना नये-पुराने पाठकों की संख्या डेढ़ से दो हजार के बीच रहती है . 10 हजार के आस-पास पन्ने पढ़े जाते हैं . आप भी अपने कलम को अपना हथियार बनाइए और शामिल हो जाइए जनोक्ति परिवार में !

    ReplyDelete
  13. हिंदी ब्लाग लेखन के लिए स्वागत और बधाई
    कृपया अन्य ब्लॉगों को भी पढें और अपनी बहुमूल्य टिप्पणियां देनें का कष्ट करें

    ReplyDelete